Breaking News
Thu. Apr 25th, 2024

विपक्षी नेताओं के फोन हैक करने के आरोपों पर अखिलेश यादव ने जताई चिंता

विपक्षी नेताओं के फोन हैक करने के आरोपों पर अखिलेश यादव ने जताई चिंताविपक्षी नेताओं के फोन हैक करने के आरोपों पर अखिलेश यादव ने जताई चिंता
खबर को शेयर करे

लखनऊ/मुंबई/नई दिल्ली, 31 अक्टूबर 2023: समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव, तृणमूल कांग्रेस (TMC) नेता महुआ मोइत्रा, शिवसेना (UBT) नेता प्रियंका चतुर्वेदी, कांग्रेस नेता शशि थरूर और पवन खेड़ा ने मंगलवार को आरोप लगाया कि उनके फोन पर राज्य प्रायोजित हमलावर हमला कर रहे हैं।

अखिलेश यादव ने लखनऊ में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि उन्हें फोन हैक किए जाने की चेतावनी मिली है। उन्होंने कहा कि यह लोकतंत्र में स्वतंत्रता और गोपनीयता पर हमला है।

मोइत्रा, चतुर्वेदी, थरूर और खेड़ा ने भी कहा कि उन्हें अपने फोन निर्माता से चेतावनी का संदेश मिला है कि उनके फोन पर राज्य प्रायोजित हमलावर हमला कर रहे हैं।

ईमेल में कहा गया है कि “हमने आपकी डिवाइस पर कुछ असामान्य गतिविधि देखी है जो यह संकेत दे सकती है कि आपके डिवाइस पर एक राज्य प्रायोजित हमलावर हमला कर रहा है।” ईमेल में यह भी कहा गया है कि हमलावर “आपके डिवाइस पर आपकी निजी जानकारी और डेटा तक पहुंचने और इसे चुराने की कोशिश कर सकते हैं।”

इन आरोपों पर भाजपा ने अभी तक कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है।

आरोपों का महत्व

इन आरोपों का महत्व यह है कि वे लोकतंत्र में स्वतंत्रता और गोपनीयता के लिए एक गंभीर खतरे का प्रतिनिधित्व करते हैं। यदि यह पुष्टि की जाती है कि राज्य प्रायोजित हमलावर विपक्षी नेताओं के फोन को निशाना बना रहे हैं, तो यह एक कदम है जो भारत के लोकतंत्र के मूल्यों को कमजोर करता है।

विपक्षी नेताओं की प्रतिक्रिया

विपक्षी नेताओं ने इन आरोपों को गंभीरता से लिया है। अखिलेश यादव ने कहा कि उन्होंने इस मामले की शिकायत राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजीत डोभाल से की है। मोइत्रा ने कहा कि वे इस मामले की जांच के लिए एक स्वतंत्र जांच समिति की स्थापना की मांग करेंगी। थरूर ने कहा कि यह एक गंभीर मामला है और इसे गंभीरता से लिया जाना चाहिए। खेड़ा ने कहा कि यह एक “खतरनाक विकास” है और इसे “बेनकाब” किया जाना चाहिए।

क्या है आगे

यह देखना बाकी है कि इन आरोपों की जांच कैसे की जाती है और क्या कोई कार्रवाई की जाती है। यदि यह पुष्टि की जाती है कि राज्य प्रायोजित हमलावर विपक्षी नेताओं के फोन को निशाना बना रहे हैं, तो यह एक गंभीर राजनीतिक संकट का कारण बन सकता है।

इसे भी पड़े-शिवसेना सांसद राउत ने आबकारी नीति मामले में केजरीवाल को ED के समन पर निंदा की

https://x.com/AHindinews/status/1719254047369416777?s=20

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *