Breaking News
Thu. Apr 25th, 2024

कानपुर : कुत्ते के हमले से घायल बिल्ली ने नोचा, रेबीज से संक्रमित, बाप-बेटे की मौत

कानपुर : कुत्ते के हमले से घायल बिल्ली ने नोचा, रेबीज से संक्रमित, बाप-बेटे की मौतकानपुर : कुत्ते के हमले से घायल बिल्ली ने नोचा, रेबीज से संक्रमित, बाप-बेटे की मौत
खबर को शेयर करे

कानपुर देहात, 1 दिसंबर 2023: उत्तर प्रदेश के कानपुर देहात जिले में एक कुत्ते के काटने से एक बिल्ली रेबीज से संक्रमित हो गई। रेबीज संक्रमण के प्रभाव से बिल्ली का व्यवहार हिंसक हो गया और उसने अपने मालिक और उसके बेटे को काट लिया। इसके बाद एक हफ्ते के भीतर बिल्ली, उसके मालिक और उसके बेटे की मौत हो गई।

मृतक पिता की पहचान इम्तियाज उद्दीन और उनके बेटे अजीम के रूप में की गई है। इम्तियाज उद्दीन एक प्राइमरी स्कूल में टीचर थे। उन्होंने अपने घर में एक बिल्ली पाल रखी थी। अब से तकरीबन 2 महीने पहले एक दिन एक कुत्ते ने बिल्ली को काट लिया। इम्तियाज उद्दीन ने बिल्ली की मरहम-पट्टी करवा दी लेकिन धीरे-धीरे बिल्ली में रेबीज संक्रमण का असर दिखने लगा। वह हिंसक हो गई थी। फिर एक दिन बिल्ली ने इम्तियाज और उनके बेटे अजीम को काट लिया।

कहा जा रहा है कि बिल्ली के काटने के बावजूद बाप-बेटे ने एंटी रैबीज वैक्सीन नहीं लगवाई। दोनों ने मरहम-पट्टी करवा कर केवल टिटनेस का इंजेक्शन लगवा लिया था। टिटनेस का इंजेक्शन लगवाने के बाद बाप-बेटे सामान्य तरीके से रहने लगे।

इधर, इम्तियाज की पत्नी ने रेबीज से पति और बेटे की मौत होने से इनकार किया है। उसका कहना है कि उसके पति बीपी और शुगर से पीड़ित थे। पड़ोसियों ने इम्तियाज उद्दीन की पत्नी के दावों से इनकार किया है। उनका कहना है कि बीते कई दिनों से इम्तियाज और अजीम में रेबीज के लक्षण दिख रहे थे।

बताया जाता है कि बिल्ली के काटने को मामूली खरोंच समझने की गलती बाप-बेटे पर भारी पड़ी। बता दें कि कुछ महीने पहले गाजियाबाद में एक 10 साल के बच्चे की रेबीज संक्रमित होने से मौत हो गई थी। दरअसल, बच्चे को आवारा कुत्ते ने काट लिया था लेकिन उसने डर से यह बात घरवालों से छुपाई। जब रेबीज का संक्रमण पूरी तरह फैल गया तो एम्स सहित विभिन्न अस्पतालों ने हाथ खड़े कर दिए।

  • कुत्ते, बिल्ली या अन्य किसी जानवर के काटने से बचें।
  • यदि किसी जानवर ने काट लिया है तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।
  • डॉक्टर एंटी रैबीज वैक्सीन लगाएंगे।
  • एंटी रैबीज वैक्सीन लगवाने से रेबीज से बचाव किया जा सकता है।
  • सिरदर्द
  • बुखार
  • थकान
  • बेचैनी
  • उल्टी
  • दस्त
  • मांसपेशियों में ऐंठन
  • जलन
  • भय
  • भ्रम
  • लार आना
  • अतिसक्रियता
  • हिंसक व्यवहार

यदि किसी व्यक्ति में इनमें से कोई भी लक्षण दिखे तो उसे तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *