Breaking News
Thu. Apr 25th, 2024

किरीबुरू : सारंडा में नक्सलियों की सक्रियता बढ़ी, पुलिस-प्रशासन अलर्ट

किरीबुरू : सारंडा में नक्सलियों की सक्रियता बढ़ी, पुलिस-प्रशासन अलर्टकिरीबुरू : सारंडा में नक्सलियों की सक्रियता बढ़ी, पुलिस-प्रशासन अलर्ट
खबर को शेयर करे

किरीबुरू, 21 दिसंबर, 2023 – किरीबुरू, सारंडा जंगल में एक बार फिर भाकपा माओवादी नक्सलियों की सक्रियता बढ़ गई है। ये नक्सली वर्तमान में छोटानागरा थाना व दीघा पंचायत क्षेत्र के घने जंगलों में सक्रिय बताए जा रहे हैं। सबसे ज्यादा सक्रियता कुमडीह और रांगरिंग गांव के बीच जंगल एवं बालिबा, मारंगपोंगा, उसरुईया, होलोंगउली एवं बाबूडेरा गांव क्षेत्र के जंगलों में रह रही है।

इन नक्सलियों के दस्ते में कई बड़े नक्सली नेताओं के भी होने की बात बताई जा रही है। बाइक व अन्य माध्यमों से भी दूसरे क्षेत्र के जंगलों से नक्सली सादे ड्रेस में पहुंच रहे हैं।

Add a heading 2023 12 21T105828.294 SINGHBHUM TIMES

नक्सली सारंडा में धीरे-धीरे फिर से अपना पैर जमाना और संगठन को मजबूती करने का कार्य शुरू कर दिया है। इससे एक बार फिर सारंडा में पुलिस व नक्सलियों के बीच खूनी संघर्ष होने की संभावना बढ़ती जा रही है।

उल्लेखनीय है कि वर्ष 2011 में पुलिस व सीआरपीएफ द्वारा चलाया गया अब तक का सबसे बड़ा ऑपरेशन ऐनाकोंडा के बाद नक्सली सारंडा छोड़कर कोल्हान व पोड़ाहाट के जंगलों में लंबे समय तक शरण लिए हुए थे।

पोड़ाहाट के टेबो थाना अंतर्गत शंकरा के जंगलों में शरण लेने के दौरान लगातार न्यूज संवाददाता से साक्षात्कार के दौरान 25 लाख रुपये के ईनामी नक्सली नेता संदीप दा (अब जेल में) ने कहा था कि हम सारंडा को नहीं छोड़े हैं, बल्कि युद्ध के दौरान सारंडा से फिलहाल पीछे हटे हैं। सारंडा को हम कभी नहीं छोड़ सकते हैं, क्योंकि सारंडा हमारा रोल मॉडल है। आज संदीप की कही बात सत्य साबित होती दिखाई दे रही है।

सारंडा के ग्रामीणों का कहना है कि सारंडा से नक्सलियों को जब भगाया गया था, तब सरकार को सारंडा के अन्य क्षेत्रों में पुलिस-सीआरपीएफ कैंप की तरह मारंगपोंगा एवं तिरिलपोसी क्षेत्र के जंगलों में दो स्थायी पुलिस कैंप स्थापित करना था। उस समय भी काफी मांग होती रही थी, लेकिन ऐसा नहीं करना पुलिस के लिए भारी भूल साबित हो रही है। इसी क्षेत्र का बड़ा जंगल आज पुलिस सुरक्षा से दूर है, जिसका लाभ नक्सलियों को मिल रहा है। छोटानागरा व गुवा थाना सीमा के रास्ते ही नक्सली सारंडा व कोल्हान के जंगल में खुलेआम आना-जाना कर रहे हैं। सारंडा में नक्सली कोई बड़ी घटना को अंजाम देने की भी तैयारी में लगे हुए हैं।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *