Breaking News
Mon. Apr 22nd, 2024

रिश्तेदार गिरोहों से पुलिस परेशान, जमशेदपुर में चार गिरोह का भंडाफोड़, आधा दर्जन से अधिक गिरफ्तार

रिश्तेदार गिरोहों से पुलिस परेशान, जमशेदपुर में चार गिरोह का भंडाफोड़, आधा दर्जन से अधिक गिरफ्ताररिश्तेदार गिरोहों से पुलिस परेशान, जमशेदपुर में चार गिरोह का भंडाफोड़, आधा दर्जन से अधिक गिरफ्तार
खबर को शेयर करे

जमशेदपुर, 17 अक्टूबर 2023: जमशेदपुर में अपराधियों ने अपराध के ट्रेंड में बदलाव किया है। अब रिश्तेदार गिरोह लगातार नए-नए अपराधों को अंजाम दे रहे हैं। इसका उद्भेदन करने में पुलिस को परेशानी का सामना करना पड़ता है।

हाल के कुछ दिनों में पुलिस ने ऐसे चार रिश्तेदार गिरोह का भंडाफोड़ किया है और आधा दर्जन से अधिक गिरफ्तारी भी की है। इन गिरोहों के रोज बदलते तरीकों ने पुलिस की परेशानी और बढ़ा दी है।

कदमा पुलिस ने ऐसे चोर गिरोह का भंडाफोड़ किया था, जिसमें मां-बेटा शामिल थे। बेटा घर में जाकर कीमती सामान की चोरी करता था और मां उसे खपाती (बेचती) थी। इस सिलसिले में पुलिस ने सूरज कुमार और उसकी मां मंजू देवी को गिरफ्तार किया था।

करोड़ों रुपये के जीएसटी घोटाले में जमशेदपुर पुलिस ने पटना में छापेमारी कर प्रदीप कुमार और उनके बेटे अभिजीत को गिरफ्तार किया था। इनके खिलाफ साल 2018 में टेल्को थाना में 9 करोड़ और बिष्टुपुर थाना में 37 करोड़ जीएसटी फर्जीवाड़ा का केस हुआ था। जीएसटी का फर्जी रजिस्ट्रेशन करवा कर दोनों ने कागजात तैयार किए थे। इन फर्जी कागजात का इस्तेमाल कर दोनों ने विभाग को करोड़ों रुपये की चपत लगाई थी। इसका खुलासा तब हुआ जब विभाग ने ऑडिट करना शुरू किया। अंत में जाकर दोनों की गिरफ्तारी हुई थी।

ब्राउन शुगर के धंधे में सीतारामडेरा पुलिस ने एक दंपती को गिरफ्तार किया था। इनके पास से 30 पुड़िया ब्राउन शुगर भी बरामद हुआ था। ह्यूम पाइप निवासी बादशाह और उसकी पत्नी रूबी दोनों मिलकर नशे का कारोबार करते थे। पुलिस ग्राहक बनकर दोनों के पास गई थी और नाटकीय अंदाज में गिरफ्तारी की थी।

इसके अलावा परसुडीह पुलिस ने मानव तस्करी के मामले में तुलसी और उसके पति टाइगर को गिरफ्तार किया था। इन दोनों पर दो नाबालिगों को राजस्थान में बेचने का आरोप था। पुलिस ने दोनों को राजस्थान से गिरफ्तार किया था।

रिश्तेदार गिरोहों से पुलिस परेशान, जमशेदपुर में चार गिरोह का भंडाफोड़, आधा दर्जन से अधिक गिरफ्तार
रिश्तेदार गिरोहों से पुलिस परेशान, जमशेदपुर में चार गिरोह का भंडाफोड़, आधा दर्जन से अधिक गिरफ्तार

क्या है पुलिस की परेशानी?

रिश्तेदार गिरोहों के सदस्य एक दूसरे को अच्छी तरह से जानते हैं और एक दूसरे की मदद करते हैं। इसी वजह से पुलिस को इन गिरोहों का उद्भेदन करना मुश्किल हो जाता है।

क्या है अगली कार्रवाई?

पुलिस ने रिश्तेदार गिरोहों के खिलाफ अभियान तेज कर दिया है। पुलिस इन गिरोहों के अन्य सदस्यों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रही है।

इसे भी पढ़े-देवघर: दिनदहाड़े घर में डकैतों परिवार को बंधक बनाकर 10-12 लाख की लूट

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *