Breaking News
Thu. Apr 25th, 2024

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की कुछ अनसुनी बातें

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की कुछ अनसुनी बातेंराष्ट्रपिता महात्मा गांधी की कुछ अनसुनी बातें
खबर को शेयर करे

महात्मा गांधी को भारत के राष्ट्रपिता के रूप में जाना जाता है। उन्होंने भारत को अंग्रेजों की गुलामी से मुक्त कराने के लिए अपना पूरा जीवन समर्पित कर दिया। गांधीजी के विचार और कार्य आज भी दुनिया भर के लोगों को प्रेरित करते हैं। हालांकि, गांधीजी के बारे में कुछ बातें ऐसी हैं जो बहुत कम लोग जानते हैं।

1. गांधीजी को बचपन से ही सत्य और अहिंसा में विश्वास था।

गांधीजी का जन्म 2 अक्टूबर 1869 को गुजरात के पोरबंदर में हुआ था। उनके पिता करमचंद गांधी राजकोट के दीवान थे। बचपन से ही गांधीजी को सत्य और अहिंसा में विश्वास था। वह अपने पिता से अक्सर कहते थे कि वह कभी झूठ नहीं बोलेंगे और कभी किसी को भी नुकसान नहीं पहुंचाएंगे।

2. गांधीजी ने इंग्लैंड में कानून की पढ़ाई की थी।

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की कुछ अनसुनी बातें
राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की कुछ अनसुनी बातें

गांधीजी ने 1887 में इंग्लैंड में कानून की पढ़ाई के लिए जाने का फैसला किया। उन्होंने लंदन के लंदन विश्वविद्यालय से कानून की डिग्री हासिल की। इंग्लैंड में रहते हुए गांधीजी ने कई नए विचारों से परिचित हुए। उन्होंने अहिंसा और सत्य के सिद्धांतों को अपनाया।

3. गांधीजी ने दक्षिण अफ्रीका में भारतीयों के अधिकारों के लिए लड़ाई लड़ी।

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की कुछ अनसुनी बातें
राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की कुछ अनसुनी बातें

गांधीजी ने 1891 में दक्षिण अफ्रीका में वकील के रूप में काम करना शुरू किया। वहां उन्होंने भारतीयों के अधिकारों के लिए लड़ाई लड़ी। उन्होंने दक्षिण अफ्रीका में भारतीयों के लिए मतदान का अधिकार, समान नागरिक अधिकार और समान रोजगार के अवसरों की मांग की। गांधीजी ने दक्षिण अफ्रीका में कई सफल सत्याग्रह आंदोलन चलाए।

4. गांधीजी ने भारत में स्वतंत्रता आंदोलन का नेतृत्व किया।

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की कुछ अनसुनी बातें
राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की कुछ अनसुनी बातें

1915 में गांधीजी भारत लौट आए। उन्होंने भारत में स्वतंत्रता आंदोलन का नेतृत्व किया। उन्होंने अहिंसा और सत्य के सिद्धांतों पर आधारित आंदोलन चलाया। गांधीजी ने भारत में कई सफल सत्याग्रह आंदोलन चलाए। इनमें दांडी मार्च, नमक सत्याग्रह और असहयोग आंदोलन शामिल हैं।

5. गांधीजी को 1948 में गोली मार दी गई थी।

15 अगस्त 1947 को भारत को स्वतंत्रता मिली। हालांकि, स्वतंत्रता के बाद भारत में सांप्रदायिक हिंसा भड़क गई। इस हिंसा को रोकने के लिए गांधीजी ने कई प्रयास किए। 30 जनवरी 1948 को नाथूराम गोडसे ने गांधीजी को गोली मार दी।

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की कुछ अनसुनी बातें
राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की कुछ अनसुनी बातें

गांधीजी की कुछ अनसुनी बातें:

  • गांधीजी को बचपन में “मोहन” नाम से बुलाया जाता था।
  • गांधीजी को खाना बनाने का बहुत शौक था।
  • गांधीजी को संगीत का बहुत शौक था। वे अक्सर भजन गाते थे।
  • गांधीजी को पशुओं से बहुत प्यार था। वे अक्सर जानवरों की सेवा करते थे।
  • गांधीजी को बच्चों से बहुत प्यार था। वे अक्सर बच्चों को पढ़ाते और खेलते थे।

गांधीजी एक महान नेता, समाज सुधारक और आध्यात्मिक गुरु थे। उन्होंने अपने जीवन के माध्यम से दुनिया को सत्य, अहिंसा और प्रेम का संदेश दिया। गांधीजी के विचार और कार्य आज भी दुनिया भर के लोगों को प्रेरित करते हैं।

इसे भी पढ़े-बिहार सरकार की जातीय जनगणना रिपोर्ट पर गिरिराज सिंह ने उठाए सवाल

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *